Wednesday, 24 October 2012

बहनों से बात.........

                                       
 संस्कार डालें. . . . . . . . .

       *  आओ सखि, आओ ! कुछ ऐसा कर डालें !! *

     रोज़ की हमारी कई आदतों से तौबा करें ,
     कुछ दिन के वास्ते हम इन्हें बदल डालें- - - -
                         आओ सखि, आओ ! कुछ ऐसा कर डालें !!
                                               
     सुबह देर से न उठें , उठ कर ऐसा भी न कहें -
     ओह शिट ! आय एम लेट !! , मूड ना बिगाड़ें....
                      इसके बदले जल्दी उठ कर हाथों को देख -
                      मन्त्र पढ़ें प्रातः का , श्रद्धा से बोलें --
     '' कराग्रे: वसते लक्ष्मी , कर मध्ये सरस्वती ,
       कर मूले स्थिते ब्रम्हा - प्रभाते कुरु दर्शनम् '' !
                      और फिर धरती को प्रणाम कर पाँव धरें ,
                      फुर्ती से सुबह के सारे काम निपटा लें |
       बच्चों को सिखाएँ- सुबह उठ कर वे प्रणाम करें ,
       आप उन्हें हँसकर कई आशिष दे डालें |
                      बच्चे या बड़े जब भी बाहर जाएँ या आएँ -
                      बाय-बाय , हाय-हाय बिल्कुल भुलादें -- |
       करें अभिवादन सभी छोटे , हाथों को जोड़ ,
       आते-जाते बड़े - उनका मंगल मना लें |
                      बोली शालीन हो , पहनावे में मर्यादा ,
                      बच्चे हों या बड़े, सभी आदत यही डालें |
        जितने लोगों से मिलें - आदर सभी का करें ,
             '' मदद और बचत'' की अच्छी आदत अपना लें |
                        पड़ोसन को 'आँटी' न पुकारें , उनसे भी ज़रा -
                         अपनों जैसा ही कोई 'रिश्ता' बनालें ,
        भाभी, दीदी, बहना, चाची, मौसी या बुआ ,
         बूढ़ी हों तो दादी-नानी कह कर बुलालें |
                         नाश्ता और खाना बनाएँ कुछ अपना सा -
                         मैगी, पिज्ज़ा, नूडल्स को  बिलकुल भुला दें |
        डब्बा-बंद फ़ूड ना खिलाएँ और ना खाएँ कभी 
         ताज़ा पौष्टिक सा कोई व्यंजन बना लें |
                      खाने का पहले भोग प्रभु का, फिर भोजन मन्त्र -
                      बच्चों को सिखाएँ , साथ खुद भी कह डालें |
         सन्ध्या की आरती जगाएं सभी मिल-जुल कर 
          सोने से पहले भी प्रभु को मना लें  - ->
                     ''सर्वे भवन्तु सुखिनः, सर्वे सन्तु निरामयाः ,
                     सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, मा कश्चिद् दुःख भाग् भवेत् ||''
          ( कुछ दिन करने में अगर मन को यह भाने लगे -
             सदा के लिए इसको घर-भर अपना ले ) 

                      '' संस्कृति महान् अपनी, देश है महान् अपना -                        आओ सब मिल अपनी संस्कृति बचा लें | '' 

                                         
********************************************************************************
                                                (  सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना )
********************************************************************************
















                                                                                                 

No comments:

Post a Comment