Saturday, 22 December 2012

एक आम लड़की की मनःस्थित.....(दिल्ली की १६ दिसंबर २०१२ की शर्मनाक घटना के बाद)

   अनुभूति... चेतना... संकल्प......

 सूरज निकल आया है, दिन भी चढ़ आया है -
                  नींद से जाग जाती है, एक सोई हुई लड़की - -

नींद खुल जाने पर, घड़ी पर नज़र जाने पर -
              ना ही ली उसने आज ज़ोरों की अंगड़ाई  ,
ना ही लगाई कोई खिलखिलाती सी आवाज़ ,
             अरे , कौन-कौन उठ गया भाई ? . . . . . . . .या
ओ मम्मी , चाय बन गई क्या ? . . . . . . . . या
              छोटू उठ , आलसी कहीं का !!
नहीं , ऐसा कुछ भी नहीं , आज ऐसा कुछ भी नहीं ;
              कम्बल हटा कर , कुछ इधर-उधर देख कर -
धीरे से अपने बिस्तर से उठ जाती है -
              एक जागी हुई लड़की - - - - - - - - - - - -

धीरे से ब्रश, फिर चाय चुपचाप पीकर ,
              काँपते से हाथों से वह पेपर उठाती है.....
आशंकित भाव लिए घबराई आँखों में ,
               धीरे-धीरे पेपर के पन्ने पलटाती है ,
खबरों को पढ़ कर फिर अपना घर देखती है ,
               मन में कुछ बुद-बुदा कर आँखें बंद करती है -
भाई और बहन को कुछ समझाइश देकर ,
            गले से लगा लेती है - गले से लगा लेती है
                          एक डरी हुई लड़की  - - - - - - - - - - - -

फिर घर के कुछ कामों में, रसोई पकवानों में ,
              जाकर वह माँ का कुछ हाथ भी बटाती है ,
पापा को बुला कर वह खाना भी खिलाती है ,
               फिर तैयार होकर वह गम-सुम सी आती है ,
थोड़ा सा प्लेट में परस कर कुछ खाती है ,
               डब्बा और पर्स लेकर माँ के पास जाती है ,
सहमी सी आँखों में जाने की अनुमति का
               प्रश्न लिए खड़ी है, अपनी उम्र से वो बड़ी है ,
माँ की आँखों में भय देख कर समझाती है,
                एक चुप-चुप सी लड़की - - - - - - - - - - - -

अपने मोहल्ले में , अपनी ही गलियों में ,
              चलते ही चलते जब मोड़ आ जाता है ,
मोड़ के उस कोने से - पलट कर वह देखती है -
               घर की ओर..........घर की ओर
अपनी उस माँ को - जो खड़ी है दरवाज़े पर
               हाथ जोड़े - अब तक , क्यूँकि -
रोज़ की तरह ही कुछ डर भी पल रहे हैं ,
              जाती हुई बेटी का मंगल मनाने को -
होंठ हिल रहे हैं............होंठ हिल रहे हैं
                घर से अभी आफ़िस तक जाने का मंगल !
शाम को फिर सकुशल लौट आने मंगल !!
                फिर से वह हाथ हिला माँ से बिदा लेती है -
                                 मुड़ती हुई लड़की - - - - - - - - -

सोच वेग लेती है , चाल तेज होती है ,
                 अभी उसे जाकर फिर लाइन में लगना है ,
बस में भी चढ़ना है , भीड़ से गुज़रना है ,
                  आफ़िस में जाकर हर काम से निपटना है
और फिर ऐसे ही शाम को अकेले ही ,
                   लाइन में , बस में और भीड़ में गुज़रना है ,
सम्मान को बचा कर घर लौट कर पहुँचना है ,
                  ऐसे ही विचारों में डूबती-उतराती ,
चलती चली जाती है , चलती चली जाती है -
                   कुछ सोचती सी लड़की - - - - - - - - - - -

कि इन सबसे छुटकारा पाना नहीं है ,
                           जीवन भर मुझको तो करना यही है ,
बड़ी मंहगाई है......... बड़ी मंहगाई है ,
                  ''पापा'' बिचारों की अकेले की कमाई है ,
घर भी तो चलाना है , मुझे भी कमाना है ,
                  अपने छोटे भाई और बहन को पढ़ाना है ,
''मम्मी'' की दलीलें और कारण कुछ अपने हैं ,
                   मेरी आँखों में भी डरे हुए सपने हैं ,
जिन्हें पूरे करना है ,दुनियां में रहना है ,
                            ऐसी बातों में घिरी , चिंता विपदा से डरी -
आगे बढती जाती सहमी सी लड़की - - - - - - - - -

और फिर उसकी भी चाल तेज हो गई ,
              आँखें भी चमक उठीं , मुट्ठियाँ भी तन गईं ,
दाँतों को भी भींचा , चहरे पे एक तेज उठा ,
               शक्ति को जगाया और खुद संकल्प बन गई -
डर कर या दब कर अब जीवन नहीं जीना है ,
               पाप खतम करना है , ज़हर नहीं पीना है ,
दुनियां के फंदों का , पातकी दरिंदों का -
                सामना ही करना है , पापियों से लड़ना है
हिम्मत बढ़ाऊँगी , तभी जीत पाऊँगी ,
                आज अब अकेली ही आवाज़ एक उठाऊँगी ,
तभी मेरे जैसी उन लाखों - करोड़ों का ,
                साथ पा जाऊँगी , आगे पग बढ़ाऊँगी ,
पापियों-दरिंदों को सज़ा दिला पाऊँगी ,
                आगे ना हो ऐसा , ऐसे नियम बना पाऊँगी ,
मेरे जैसी हर-एक लड़की को दुनियाँ में -
                शान और सम्मान का जीवन दिला पाऊँगी !!
देखी संकल्प लेकर बढ़ती हुई लड़की - - - - - - - !!
                 देखी संकल्प लेकर - बढ़ती हुई लड़की - - - - - - - !!
                                    *   *   *   *   *   *   *

******************************************************
                      सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना 
******************************************************
               











































  

Thursday, 20 December 2012

दीवाने से दिन आए - - - - -



            दीवाने से दिन..........




       





 दीवाने से दिन आए - - - - - - 
    
आँख अचानक हुई पराई , बौराया सा मन लगता है ,
होंठ हमेशा कंपना चाहें , घबराया सा तन लगता है ;
इस घबराहट में भी हरदम मुस्काने के दिन आए - - - -
                                        *    *    *
कोई बोला ? सिहर उठा मन , पर देखा कोई न बोला !
और किसी की सच पुकार पर, मेरा मन कुछ क्यूँ न  बोला ?
मन की बातें मन से सुन कर , शर्माने के दिन आए - - - -
                           *    *    *
कोयल की कू-कू का मतलब , आज समझ में क्यूँ आया है !
और पपीहे की पुकार में , मुझे याद कोई आया है !
फूल-कली , भँवरे की गुन - गुन सुन पाने के दिन आए - - - -
                           *    *    *
अपनों को बेगाना सा अब कहने को क्यूँ मन करता है ?
और पराया - अपना बन कर , हरदम मन में क्यूँ रहता है ?
उसी पराए की सुधियों में , खो जाने के दिन आए - - - -
                            *    *    *
आज किसी ने कहीं हवा में , भाँग मिलाई धीरे-धीरे !
और धूप ने करी शरारत , बनी चाँदनी धीरे-धीरे !!
एक रूप क्या चाँद और सूरज ? - बौराने के दिन आए - - - -
                            *    *    *
दिन में रात, रात में दिन क्यूँ लगता है , क्या हो जाता है ?
रात जाग कर और विवश दिन - सोने में क्यूँ कट जाता है ?
सोऊँ  या जागूँ - सपनों में खो जाने के दिन आए - - - -
                            *    *    *
गर्मी में वसन्त क्यूं लगता , लगे हवा भी फगुनाई सी ,
फूलों पर भँवरे क्यों दिखते , बौर से लदी  अमराई सी !
लगता है अब सब कलियों के खिल जाने के दिन आए - - - -
                             *    *    *
कैसे थे ? क्या-क्या बोले थे ?? बोली उनकी कैसी थी ???
सच कहना - तूने देखी थी ? चितवन किसके जैसी थी ??
पूछेंगी सब मिल , सखियों से घिर जाने के दिन आए - - - -
                              *    *    *
मन की बात न मुँह से निकले, चैन न हो मन को बिन बोले ,
आखों में कोई पढ़ ले , तो झिझकें आँखें हौले-हौले ,
मन-चाहे प्रश्नों से भी अब , अकुलाने के दिन आए - - - -
                               *    *    *
दर्पण से जा कर पूछा - क्या तुम्हें पता है इसका राज़ ?
मुस्का कर बोला - भोली हो ! आओ तुम्हें बताऊँ आज ,
समझो ज़रा -  '' तुम्हारे - उनके हो जाने दिन आए !!''

दीवाने से दिन आए...दीवाने से दिन आए...दीवाने से दिन आए.....
                              *     *     *
*******************************************************                     
             सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना
*******************************************************


































Wednesday, 19 December 2012

घर सूना लागे , सूना लागे अँगना..........

 घर सूना लागे............
( बिटिया की बिदा के कुछ दिन बाद, उसकी याद  में प्रतीक्षा करती माँ........)

                            घर सूना लागे , सूना लागे अँगना |

               भोर की चिरैया सी तू झट उठ जाती ,
                    चहक-चहक, फुदक-फुदक सबको जगाती ;
               करती किलोल कभी छुप - चुप हो जाती ,
                    फिर थोड़ी देर न मैं कुछ आहट पाती ;
               खलता था तेरा उतना सा चुप रहना -
                     घर सूना लागे , सूना लागे अँगना.........

           सूना है झूला और सूनी फुलवारी ,
                        हर फूल-पत्ते में - तेरी सुधि प्यारी ;
           बाहर जा कर जब मैं तुझको न पाती ,
                        तुझ बिन फूलों की गंध मन को न भाती ;
           कैसे सीखूँ अब मैं तुझ बिन यूँ रहना ?
                         घर सूना लागे , सूना लागे अँगना.........

           भीतर जब लौटूँ, तो हर कमरा खाली ,
                         खाली रसोई और मन्दिर भी खाली ;
           जब तू न मिले कहीं, तो तेरे सामान छी लूँ ,
                         जैसे तू मिल गई हो - उन्हें भींच जी लूँ ;
           तेरी चुन्नी - चूड़ी या कोई गहना ,
                          घर सूना लागे , सूना लागे अँगना.........

            किसी को बुलाऊँ , तो तेरा ही नाम आए ,
                          और यह सोच - मेरा जी भर-भर आए ;
            भेजा है दूर बहुत तुझको जो मैंने ,
                           देखा कबसे नहीं ज्यों युग बिताए मैंने ;
            कब तू आएगी - ' मेरी प्यारी मैना ' ;
                           घर सूना लागे , सूना लागे अँगना.........

             बहनें रोएँ तेरी , भैया भी रोएँ ,
                            मैं तड़पूं मन में , पिता चैन से न सोएँ ;
            आएँ सखियाँ तेरी - बड़ी सूनी-सूनी ,
                            पूछें - कब आएगी ? - हो उदास दूनी ;
             देखूँ कैसे सबका - तेरी याद सहना ;
                             घर सूना लागे , सूना लागे अँगना........

              सुबह-शाम आस लिए मन मैं बहलाती हूँ ,
                             बीतें कुछ घड़ियाँ , झट तुझको बुलवाती हूँ ;
              आएगी जब - झट मैं गोद में छिपा लूंगी ,
                              उतारूंगी नज़र , तुझे जी भर निहारूंगी ;
               देखूँगी सबके चेहरे फिर से खिलना ;
                               घर सूना लागे , सूना लागे अँगना.........
     
                 लाड़ली जनक की , तुझे दी जो बिदाई ,
                            ससुराल - अयोध्या सी , सास कौशल्या सी पाई ;
                मन हो विकल जब , ये धीरज बँधाऊँ ,
                            'राम' जैसा वर है , 'सिया' जैसी तुझे पाऊँ ;
                अटल-सुहाग भरी रहो ''गुण-सगुणा'' ;
                             घर सूना लागे , सूना लागे अँगना.........||
                                        
*********************************************************
                    सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना
*********************************************************                  















         

Friday, 23 November 2012

झाँक देखा द्वार पर.........


                       झाँक देखा द्वार पर - - - - - - -          

( ब्याह के बाद बेटे-बहू के प्रथम-द्वार-आगमन की अनुभूति......)
                                                                
                     
    इस नगर में जगमगाहट का अनोखा साज देखा ,
          युगों से झिल-मिल चमकती धूप का अंदाज़ देखा ,
                      पर कभी कोई किरण मन तक  न मुझको बींध पाई ,
                      हर चमक थी दृष्टि तक, जो  हृदय-पट ना सेंध पाई ,
          यह अनोखी भोर आई झिलमिलाती काँपती सी ,
          दृष्टि-पथ से दीप्ति आई हृदय-तम को भाँपती सी ,
                     भूल सुध-बुध  मैं अचम्भित ढूँढती कारण फिरी -
                     झाँक देखा द्वार पर - ''दो दीप'' मुस्काते खड़े हैं..........

          आज गलियों में किसी ने इत्र का छिड़काव डाला ?
          या किसी मालिन का छूटा टोकरा - जो ना संभाला ?
                         या कि पुरवाई उड़ाती आ गई फूलों की घाटी ?
                         या मलय की नव-बहारें चूमने आईं हैं माटी ,
        या अगर की गन्ध मन्दिर से हर इक कोने में फ़ैली ?
        या हवन की धूप करती है सुवासित यह हवेली ?
                        भूल सुध-बुध , मैं अचम्भित , ढूँढती कारण फिरी -
                        झाँक देखा द्वार पर - ''दो फूल'' मुस्काते खड़े हैं.........
      
     एक सिहरन , तृप्ति की अनुभूति मन ने आज पा ली ,
      आस बरसों की हुई पूरी , खुशी - खुश हो संभाली ,
                        आज मेरा स्वप्न - जो साकार हो कर द्वार आया ,
                        नमन  लाखों ईश्वर के , जिनसे ये वरदान पाया ,
  और अब यह प्रार्थना है - प्रभु इन्हें हँसता रखे ,
   हर खुशी इनको मिले , जीवन सफल बसता रखे ,                          
                    भूल सुध-बुध मैं अचम्भित ढूँढती कारण फिरी -
                    झाँक देखा द्वार पर-''दो प्यार के पंछी'' खड़े हैं...|                                                          
                                                        
================================================================
                              सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना
================================================================























Sunday, 4 November 2012

सोच के दो पल . . . . .

                                                         
                                                               

 *   सलाह ---

             फूल ने फूल से फूल कर ये कहा -                               
                             फूल कर तो कोई फूल पाता नहीं |
              फूलना है अगर , फूल बन कर जियो ;
                              फूल कर फूलना जग को भाता नहीं ||

---------------------------------------------------------------------------------*  ज़िंदगी ---
              ज़िंदगी को ज़िंदगी सीधी समझने दो मुझे ,
                          फ़ल्सफ़ा ढूँढा , तो पूरी बिखर कर रह जाएगी !!

---------------------------------------------------------------------------------*  नेमत ---
                ज़िंदगी को फ़ल्सफ़ा कहने से पहले सोचिए -
                             '' खुदा की नेमत है'' - इसकी कद्र करना चाहिए !!

--------------------------------------------------------------------------------    * ग़नीमत ---

 डूबती क़श्ती को , कोई तो बचने आया -
                      भले तिनका था वो , लेकिन दिल तो उसका देखिये !!

---------------------------------------------------------------------------------     *   दस्तूर ---

                      इस बेढंगी सी दुनियाँ का, दस्तूर भी कुछ निराला है -
                                       उजालों से मुँह चुराते लोग,  अंधेरों में ढूँढते उजाला हैं |

------------------------------------------------------------------------------- *  ग्रहण ---

            दूर वादी में खिला चाँद - आज मुरझाया ,
                                     नज़र किसी की लगी थी, कोई ''ग्रहण'' समझा !!

---------------------------------------------------------------------------------
*   खौफ़ ---

             बात कहते हुए 'उसूल' की , डर लगता है ;
                             कहीं अपना कोई , दिल पर इसे न ले बैठे !!

-------------------------------------------------------------------------------- *    साथी ---

             तनहा चलना है तंग राहों में , 
                                 क़ाफ़िले साथ नहीं चलते हैं ;
                  क़हक़हे मिल के सब लगाते हैं -
                             ग़म अकेले ही दिल में पलते हैं |

***************************************************************
                          सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना 
***************************************************************

Wednesday, 24 October 2012

बहनों से बात.........

                                       
 संस्कार डालें. . . . . . . . .

       *  आओ सखि, आओ ! कुछ ऐसा कर डालें !! *

     रोज़ की हमारी कई आदतों से तौबा करें ,
     कुछ दिन के वास्ते हम इन्हें बदल डालें- - - -
                         आओ सखि, आओ ! कुछ ऐसा कर डालें !!
                                               
     सुबह देर से न उठें , उठ कर ऐसा भी न कहें -
     ओह शिट ! आय एम लेट !! , मूड ना बिगाड़ें....
                      इसके बदले जल्दी उठ कर हाथों को देख -
                      मन्त्र पढ़ें प्रातः का , श्रद्धा से बोलें --
     '' कराग्रे: वसते लक्ष्मी , कर मध्ये सरस्वती ,
       कर मूले स्थिते ब्रम्हा - प्रभाते कुरु दर्शनम् '' !
                      और फिर धरती को प्रणाम कर पाँव धरें ,
                      फुर्ती से सुबह के सारे काम निपटा लें |
       बच्चों को सिखाएँ- सुबह उठ कर वे प्रणाम करें ,
       आप उन्हें हँसकर कई आशिष दे डालें |
                      बच्चे या बड़े जब भी बाहर जाएँ या आएँ -
                      बाय-बाय , हाय-हाय बिल्कुल भुलादें -- |
       करें अभिवादन सभी छोटे , हाथों को जोड़ ,
       आते-जाते बड़े - उनका मंगल मना लें |
                      बोली शालीन हो , पहनावे में मर्यादा ,
                      बच्चे हों या बड़े, सभी आदत यही डालें |
        जितने लोगों से मिलें - आदर सभी का करें ,
             '' मदद और बचत'' की अच्छी आदत अपना लें |
                        पड़ोसन को 'आँटी' न पुकारें , उनसे भी ज़रा -
                         अपनों जैसा ही कोई 'रिश्ता' बनालें ,
        भाभी, दीदी, बहना, चाची, मौसी या बुआ ,
         बूढ़ी हों तो दादी-नानी कह कर बुलालें |
                         नाश्ता और खाना बनाएँ कुछ अपना सा -
                         मैगी, पिज्ज़ा, नूडल्स को  बिलकुल भुला दें |
        डब्बा-बंद फ़ूड ना खिलाएँ और ना खाएँ कभी 
         ताज़ा पौष्टिक सा कोई व्यंजन बना लें |
                      खाने का पहले भोग प्रभु का, फिर भोजन मन्त्र -
                      बच्चों को सिखाएँ , साथ खुद भी कह डालें |
         सन्ध्या की आरती जगाएं सभी मिल-जुल कर 
          सोने से पहले भी प्रभु को मना लें  - ->
                     ''सर्वे भवन्तु सुखिनः, सर्वे सन्तु निरामयाः ,
                     सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, मा कश्चिद् दुःख भाग् भवेत् ||''
          ( कुछ दिन करने में अगर मन को यह भाने लगे -
             सदा के लिए इसको घर-भर अपना ले ) 

                      '' संस्कृति महान् अपनी, देश है महान् अपना -                        आओ सब मिल अपनी संस्कृति बचा लें | '' 

                                         
********************************************************************************
                                                (  सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना )
********************************************************************************
















                                                                                                 

Tuesday, 23 October 2012

कहाँ-कहाँ कृष्ण......कैसे-कैसे कृष्ण....!!




 तुम कहाँ - कहाँ........!!




   * मुझे दृष्टि में न बाँधना कि मैं नीलांबर हूँ जो -
              क्षितिज से क्षितिज तक जो धरती पर छाया |

  * मुझे वृष्टि में न नापना , कि मैं वह जल-प्लावन हूँ -
              जिसने यमुना की लहरों को बढ़ाया |

  * मुझे बन्ध में न बाँधना , कि मैं वह निर्बन्ध हूँ -
               जिसने कारागृह के बंध को खुलाया |

  * मुझे शक्ति में न आँकना , कि मैं तो वह बल हूँ -
                     जिसने उँगली पर गोवर्धन उठाया |

   * मुझे ताल में न तौलना , कि मैं वह पद-चाप हूँ -
                  जिस पर नट-नागर ने नाग को नथाया |

  * मुझे रौद्र में न रोकना , कि मैं तो वह क्रोध हूँ -
                जिसने कंस-मर्दन कर भूमि पर लिटाया |

  * मुझे सीमा में न रखना , कि मैं वह असीम हूँ -
                        जो हर गोपी संग कृष्ण बनकर भरमाया |

   * मुझे मूर्ति में न गढ़ना , कि मैं वह विराट हूँ -
                        जिसके आकार में ब्रम्हाण्ड भी समाया |

    * मुझे माला में न गूँथना , कि मैं तो वह पुष्प हूँ -
                        जिसको वृन्दावन की गलियों में बिछाया |

     * मुझे नाद में न ढूँढना , कि मैं तो वह गूँज हूँ -
                 जिसको भँवरे ने मधुबन में गुंजाया |

     * मुझे शब्द में न लिखना , कि मैं तो वह बोल हूँ -
                   जिसको सखि राधा ने श्याम को सुनाया |

      * मुझे छन्द में न रचना , कि मैं तो वह गीत हूँ -
                 जिसे ग्वाल-बालों ने जंगल में गाया |

    * मुझे राग में न बाँधना , कि मैं तो वह तान हूँ -
                जिसे किसी गोपी ने धुन में गुनगुनाया |

    * मुझे वाद्य में न कसना , कि मैं तो वह ध्वनि हूँ -
                    जिसने कान्हा की मुरली में स्वर पाया |

    * मुझे नृत्य में न देखना , कि मैं तो वह लास्य हूँ -
                    जिसने कान्हा को महा-रास में रमाया |

    * मुझे हास्य में न लखना , कि मैं वह स्मित हूँ -
                       जिसने यशोदा को क्षणांश में लुभाया |
  
      * मुझे प्रेम में न पागना , कि मैं तो वह भाव हूँ -
                    जिसमें राधा ने सुध-बुध को गँवाया |

    * मुझे भक्ति में न आँकना , कि मैं तो वह लगन हूँ -
                     जिसको मीरा ने रच-रच कर सुनाया |

    * मुझे करुणा में न सोचना , कि मैं तो वह अश्रु हूँ -
                     जिसने विव्हल हो सुदामा-पग धुलाया |

     * मुझे पीड़ा में न झाँकना , कि मैं तो वह विरह हूँ -
                     जिसको राधा ने स्मृतियों में पाया |

     * मुझे वचन में न हारना , कि मैं वह विश्वास हूँ -
                       जिसने सभा में द्रौपति को बचाया |

    * मुझे ज्ञान में न जीतना , कि मैं वह उपदेश हूँ -
                      जिसने रण-भूमि में अर्जुन को जगाया |

    * मुझे कर्म से न त्यागना , कि मैं हूँ ''कर्म-योगी'' -
                      जिसने कर्म के अनुसार सभी को फल दिलाया |

     * मुझे धर्म से न ढांकना , कि मैं हूँ वह योगी -
                     जो जगत में महान् ''योगेश्वर''  कहलाया ||

*******************************************************                                                          सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना 
*******************************************************    
                        
                       
 

Monday, 22 October 2012

धर्म और राज-नीति में अंतर ---

       अंतर - - - - - 



साम-दाम और दण्ड-भेद की नीति जहाँ चल सकती हो ,
ईर्ष्या-द्वेष निलज्ज कुटिलता जहाँ निडर पल सकती हो ;

कण-कण में हो स्वार्थ जहाँ , कोई न जगह भावुकता की ,
मन-क्रम-वचन समेत सत्य को , जो असत्य कर सकती हो  ;

इन पाखण्डों से हटकर तो , राज-नीति का जोड़ नहीं ,
राज-नीति की यह परिभाषा - जिसका कोई तोड़ नहीं ;

राज-नीति और धर्म - कभी पर्याय रूप ना हो सकते ,
आसमान से तारे लाकर धरती पर ना बो सकते ;

इसको कोई धर्म कहे तो छुपी हुई कुछ नीति कहीं ,
स्वयं-सिद्ध यह बात - ''धर्म और राज-नीति का मेल नहीं ||''

                              *     *     *     *     *
==========================================================
                      सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना 
==========================================================

Tuesday, 5 June 2012

देखो प्रकृति कहे कुछ हमसे.....

                                                    
                                  
                                   *         *         *
    प्रकृति हमारी चिर-सखी , मानव-प्रकृति बताय ;
                         वृक्ष हमारे मित्र हैं , जीवन पाठ पढ़ायँ . . . ||
                                   *         *         *
   बीज धरा में पल रहा , प्रकृति स्वयं पनपाय ;
                         अंकुर फूटे - जन्म ले , धरती माँ बन जाय . . . ||
                                    *         *         *
   कोमल किसलय जब बढ़ें , नित हरीतिमा पायं ;
                         पके-पात पीले पड़ें , आखिर में झड़ जायं . . . ||
                                    *          *         *
    बौर खिलें , अमियाँ लगें ,समय पायं - गदरायँ ;
                     आम पकें - तब झड़ चलें , जीवन-गति समझायं . . . ||
                                     *         *         *
     सूखी गुठली आम की , मिट्टी-पानी पाय ;
                          प्राण-वायु , पर्यावरण , छाया , फल दे जाय . . . ||
                                     *         *         *
     पतझड़ में पत्ते झड़ें , फिर वसंत आ जाय ;
                       जीवन का यह चक्र है -सुख-दुःख आकर जायं . . . ||
                                      *         *         * 
     बूढ़े बरगद की जटा , जब नीचे झुक जाँय ;
                                        जैसे पोते की तरफ - दादा हाथ बढ़ायँ . . . ||
                                     *         *          *
****************************************************************** 
                                         सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना 
******************************************************************                           

Monday, 28 May 2012

क्या रक्खा उन इन्सानों में . . . . . .

                                          

देखे ऐसे लोग..........









देखेऐसे लोग कि जिनके मन में कडुवाहट विष जैसी,
मन का मैल न जो धो पाईं, क्या रक्खा उन मुस्कानों में . .
                                           *
द्वेष भरे मन देखे जिनने नहीं किसी की करी प्रशंसा,
मतलब से जो गाए जाएँ, क्या रक्खा उन गुणगानों में . .
                                           *
मानवता के मूलधर्म को त्याग खा, रहे एक दूजे को,
हों सारे मानव ऐसे तो फर्क रहा क्या हैवानों में . .
                                          *
अत्याचार, अनीति, झूठ, और दंभ सहारे जिनके देखे,
दूजों के सुख में दुःख घोलें, फर्क बचा क्या शैतानों में . .
                                           *
जीवन की उलझी गलियों के सुख-दुःख में आशा से पाले,
जो न हो सके पूरे तो फिर क्या रक्खा उन अरमानों में . . . . . . .
                               *     *     *     *     *
****************************************************************************
                   सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना
****************************************************************************

Sunday, 27 May 2012

'' वाह कितनी ? और आह कितनी ??''

डगर कितनी ?
                            
                                * ‎'' वाह कितनी ? और आह कितनी ??'' *
                                                          *    *
      ज़िंदगी की चाल है लचर कितनी, रेत के टीले में हैं डगर कितनी ,
      अफवाहें बनती हैं खबर कितनी, बातें सहने की हैं मगर कितनी ?
                                                          *    *
                   डूबते सितारे में दमक कितनी, झरते हुए फूल में महक कितनी , 
                   बुझते चिराग की भभक कितनी, रोती हुई शमा की चमक कितनी ?
                                                          *    *
      ताश के महल में गुज़र कितनी, सूखती नदी में लहर कितनी ,
      विदा लेती आँखों में नज़र कितनी,झूठे किये वादों की उमर कितनी?
                                                          *    *
                  बीते हुए लम्हों की कसक कितनी,आने वाले वक़्त की हुमक कितनी ;
                  जाती हुई खुशी की चहक कितनी,सपनों वाली  दुनियाँ की  बहक  कितनी ?                                                            *     *
     पीले पड़े पात में लुनाई कितनी , बंजर हुई धरती अघाई कितनी ,
      ठूँठ हुए पेड़ में नरमाई कितनी , उम्र-क़ैद माँगेगी रिहाई कितनी ?
                                                           *     *
                   स्वाति-बूँद होकर बरसाई कितनी , चातक की प्यास बुझाई कितनी ,
                   चन्दा से आस तो लगाई कितनी , रूठी जो रात तो मनाई कितनी ?
                                                           *     *
     उजड़ी जो बस्ती वो बसाई कितनी , छूटी जो मेहँदी वो रचाई कितनी ,
     बची हुई जान भी गँवाई कितनी , टूटी हुई रस्में निभाई कितनी ?
                                                            *     *
                   बातें कितनी थीं बताईं कितनी , दुनियाँ की चालें लुभाईं कितनी ,
                    में उम्मीदें जगाईं कितनी , मन की उमंगें दबाईं कितनी ?
                                                            *     *
     बनावटी बातें सुहाईं कितनी , सच के दर्पण ने दिखाईं कितनी ,
     अपनों ने जान कब हिलाई कितनी , मौन रहने में है भलाई कितनी ?
                                                     *     *
                               कहो आह कितनी और वाह कितनी ????????????
                                                            कहो आह कितनी और वाह कितनी ?????????????? ?

                                                                          *     *
*********************************************************************************
                                          ( * सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना * )
*********************************************************************************