Thursday, 4 August 2011

मन की पीर

मन की पीर.........

मन की पीर न मैं कह पाई .....


                          कान्हा को तन-मन से चाहा , लोक-लाज को छोड़ निबाहा ;


                          मान दिया मोहन ने मन से , ब्रम्ह -शक्ति का रूप जतन से ;

                          श्याम गए जब मथुरा नगरी , पनघट पर बैठी भर गगरी ;

                          ऐसी कोई आई बाधा , नैन नीर भर बोली राधा -

                          जाते बाँह न मैं गह पाई.... जाते बांह न मैं गह पाई ......

मन की पीर न मैं कह पाई .......

                          घर से निकली निपट अकेली , चंचल-अल्हड़ कीं अठखेली ;

                          निर्मल- उज्वल ,  दूध-धवल थी ,  दुनियाँ से अबोध निश्छल थी ;

                          सागर से  जा कर मिलना था , राह कठिन और तिमिर घना था ;

                          हर पग पर विपदाएँ घोलीं , हो उदास यह नदिया बोली -

                          खुश निर्बाध न मैं बह पाई .... खुश निर्बाध न मैं बह पाई ....

मन की पीर न मैं कह पाई ..........
                          
                         एक कली बगिया में फूली , भोली में भूली अल्हड़ता में भूली ;

                         उसकी थी कुछ शान निराली , दिन होली के - रात दीवाली ;

                         जिस डाली पर झूल रही थी , बचपन से फल-फूल रही थी ;

                         बींधा उसके ही काँटों ने , तब बोली - ''जीवन दो खोने'' -

                         यह अपमान न मैं सह पाई ..... यह अपमान न मैं सह पाई .......

मन की पीर न मैं कह पाई - - - मन की पीर न मैं कह पाई - - - मन की पीर न मैं कह पाई !!

******************************************************
                                          ( सर्वाधिकार सहित , स्व-रचित रचना )
******************************************************

1 comment: